खेती

गंगा किनारे बसे बरेली मंडल के 87 गांव में जैविक खेती

सदनीरा गंगा किनारे बसे बरेली मंडल के 87 गांवों में सिर्फ जैविक खेती की जाएगी। अर्थ गंगा मुहिम के तहत बरेली मंडल के 87 गांवों का चयन प्रशासन ने करके रिपोर्ट शासन को भेज दी है। इन गांवों की खेती में रसायनिक खाद का इस्तेमाल बंद किया जाएगा। सरकार 50-50 किसानों के क्लस्टर बनाकर चंद्रशेखर आजाद कृषि विवि में ट्रेनिंग देगी। किसानों को मास्टर ट्रेनर बनाया जाएगा। किसान गांवों के दूसरे किसानों को प्रशिक्षित करेंगे।

27 जनवरी से गंगा यात्रा की शुरूआत हुई है। बरेली मंडल में गंगा यात्रा 29 जनवरी को पहुंचेगी। सरकार ने गंगा को अर्थ गंगा बनाने का अभियान शुरू किया है। गंगा किनारे बसे गांवों को जैविक खेती की जाएगी। रसायनिक खाद और कीटनाशक का इस्तेमाल बंद कराया जाएगा। फसलों में रसायनिक खाद और कीटनाशकों का प्रयोग बंद होने से गंगा की पवित्र रखा जा सकेगा। सरकार ने जैविक खेती की कार्ययोजना बनाकर प्रशासन के पास भेज दी है। बरेली मंडल के 87 गांवों को अर्थ गंगा फायदा मिलेगा। इनमें बदायूं और शाहजहांपुर के अधिक गांव हैं। जैविक खेती के जरिए किसानों को आमदनी बढ़ाने के तरीके सिखाए जाएंगे। गंगा से सटे गांवों की मिट्टी के पोषण बरकरार रखने की कवायद शुरू हुई है। जैविक फसल की पैदावार से लेकर मार्केट मुहैया कराने तक सरकार किसानों को साथ देगी। किसानों को जैविक खेती के साथ पशु पालन और सब्जी-फल की पैदावार के जरिए आमदनी बढ़ाने के तरीके भी बताए जाएंगे।

दूसरे चरण में जुड़ेंगे और गांव

अर्थ गंगा मुहिम का दूसरे चरण में और विस्तार किया जाएगा। दूसरे गांवों को मुहिम में शामिल किया जाएगा। गंगा के साथ-साथ गंगा की सहायक नदियों को भी अभियान का हिस्सा बनाने की तैयारी है।

गंगा किनारे बसे बरेली मंडल के 87 गांवों को जैविक खेती के लिए चुना गया है। किसानों को कानपुर में सरकार ट्रेनिंग देगी। जैविक खेती के साथ आमदनी बढ़ाने के तरीके बताए जाएंगे। बरेली मंडल में 29 को गंगा यात्रा आएगी। – रणवीर प्रसाद, कमिश्नर

Leave a Comment