Two muthi rice and travel from 2 rs to 25 million

फुलबासन यादव का दो मुठी चावल और दो रुपये से पचीस करोड़ तक का सफर “गरीबी सिर्फ मन से है हौसला हो तो कुछ भी कर गुजर” ऐसा ही कुछ कर दिखाया पद्म श्री से सम्मानित राजनांदगाव, छतीसगढ़ की फूलबासन यादव जिसने ना ही खुद को आगे बढ़ाया बल्कि कई ऐसे महिलाओं को आज मुकाम दिया है जो सम्माज के…

X